एक्ट्रेस लीना मारिया पॉल की हिरासत की अवधि बढ़ाई गई, मनी लॉन्ड्रिंग केस में कोर्ट का फैसला

0
6
Advertisement


नई दिल्ली. दिल्ली की एक अदालत ने एक कारोबारी की पत्नी से 200 करोड़ रुपए की वसूली से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में एक्ट्रेस लीना मारिया पॉल (Leena Maria Paul) से हिरासत में पूछताछ की अवधि 16 अक्टूबर तक बढ़ा दी है. विशेष न्यायाधीश परवीन सिंह ने पॉल के पति एवं 21 मामलों में आरोपी सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar) की प्रवर्तन निदेशालय (ED) की हिरासत की अवधि भी 11 दिन बढ़ा दी है. दंपति को पूर्व में तीन दिन के लिए ईडी की हिरासत में भेजा गया था, जिसकी अवधि समाप्त होने पर दोनों को 12 अक्टूबर को अदालत के समक्ष पेश किया गया.

दंपति ने फोर्टिस हेल्थकेयर के पूर्व प्रवर्तक शिविंदर मोहन सिंह की पत्नी अदिति सिंह से कथित तौर पर धोखाधड़ी की थी. जांच एजेंसी ने दंपति की हिरासत की अवधि 11 दिन के लिए बढ़ाने का आग्रह किया था. न्यायाधीश ने कहा, ‘रिकॉर्ड को देखने के बाद, मैंने पाया है कि अपराध से अर्जित धन की कड़ी को स्थापित करने और अन्य अभियुक्तों के बयानों से आरोपियों का सामना कराने के लिए, आरोपियों से हिरासत में और पूछताछ की आवश्यकता है. हालांकि, मुझे आरोपी लीना मारिया पॉल को 11 दिन के लिए ईडी की हिरासत में भेजने का कोई आधार नहीं मिला है.’

ईडी की ओर से विशेष लोक अभियोजक अतुल त्रिपाठी द्वारा दायर आवेदन में दावा किया गया कि धनशोधन में मदद करने वाले अन्य लोगों की भूमिका तथा अन्य चीजों का पता लगाने के लिए आरोपियों से हिरासत में और पूछताछ किए जाने की आवश्यकता है.

यह मामला अदिति सिंह की शिकायत पर दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा द्वारा दर्ज प्राथमिकी के आधार पर दर्ज किया गया था. सिंह ने शिकायत में कहा था कि पिछले साल जून में एक व्यक्ति ने खुद को कानून मंत्रालय का वरिष्ठ अधिकारी बताकर उस समय जेल में बंद उसके पति को पैसे के बदले जमानत दिलाने में मदद करने की पेशकश की थी. शिविंदर सिंह को 2019 में रेलिगेयर फिनवेस्ट लिमिटेड (आरएफएल) में धन की कथित हेराफेरी से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया गया था.

पुलिस के मुताबिक, निर्वाचन आयोग रिश्वत मामले समेत 21 मामलों में आरोपी चंद्रशेखर ने अदिति को फोन किया था जिसे अगस्त में गिरफ्तार कर लिया गया था. घटना के वक्त चंद्रशेखर दिल्ली की रोहिणी जेल में बंद था और वहां से रंगदारी वसूलने का रैकेट चला रहा था. पुलिस ने कहा था कि जांच के दौरान पता चला कि कनॉट प्लेस में एक बैंक के प्रबंधक और उसके दो सहयोगी धन के प्रवाह और नकदी की व्यवस्था के लिए संदिग्ध लेनदेन में शामिल थे, जिन्हें बाद में गिरफ्तार कर लिया गया था. इसने कहा था कि रोहिणी जेल के एक सहायक जेल अधीक्षक और उपाधीक्षक को रैकेट में शामिल पाया गया, जिन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here