तालिबानी हुकूमत LIVE: काबुल में लौटेंगे वर्दी वाले अफगानी पुलिसवाले, दूसरे प्रांतों में ट्रांसफर की जाएगी तालिबानी फोर्स

0
10


  • Hindi News
  • International
  • Taliban Afghanistan Kabul Airport LIVE Update; Panjshir News | US Military Withdrawal | Afghan President Ashraf Ghani

काबुल2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

काबुल में अफगानी पुलिस की वापसी होने जा रही है। तालिबान ने तय किया है कि यहां तैनात तालिबानी फोर्स को प्रांतों में भेजा जाएगा और यहां वर्दी पहने अफगानी पुलिस को फिर से तैनात किया जाएगा। यह अफगान पुलिस वही होगी जो पिछली सरकार के समय तैनात हुआ करती थी। इसके साथ अब तालिबानी फोर्स और पुलिस की वर्दी एक जैसी होगी।

तालिबान के सांस्कृतिक समीशन के सदस्य ने अनाममुल्लाह समनगनी ने बताया कि मौजूदा तालिबानी फोर्स जिसके पास वर्दी नहीं है, उसे काबुल से ट्रांसफर करके प्रांतों में मिलिट्री पोस्ट पर भेजा जाएगा। समनगनी ने यह नहीं बताया कि काबुल में कितनी पुलिस और कितनी सेना तैनात की जाएगी।

समनगनी ने कहा कि पुलिस और वर्दी वाली सेना, जिसने अपने क्षेत्र में ट्रेनिंग और स्किल हासिल किया है, उसे जल्द ही काबुल की सिक्योरिटी संभालने की जिम्मेदारी दी जाएगी। उसके बाद, जो मुजाहिदीन अलग-अनग पुलिस विभागों में तैनात किए गए हैं और जिनके पास यूनिफॉर्म नहीं है, उन्हें प्रांतों के पुलिस हेडक्वार्टर और आर्मी कोर में तैनात किया जाएगा।

लोग चाहते हैं यूर्निफॉर्म वाली पुलिस करे शहर की रखवाली
काबुल के कई नागरिकों ने कहा है कि शहर की सुरक्षा के लिए वर्दी वाली फौजों को तैनात किया जाना चाहिए, ताकि खुद को तालिबान बताकर अपराध करने वाले बंदूकधारियों को रोका जा सके। नागरिकों का कहना है कि, लोगों को यूर्निफॉर्म वाली पुलिस की आदत है और उनके होने पर लोग ज्यादा सुरक्षित महसूस करते हैं।

कतर के विदेश मंत्री काबुल पहुंचे

कतर के विदेश मंत्री मोहम्मद बिन अब्दुल रहमान अल थानी रविवार को काबुल पहुंचे।

कतर के विदेश मंत्री मोहम्मद बिन अब्दुल रहमान अल थानी रविवार को काबुल पहुंचे।

अमेरिका और तालिबान के बीच मध्यस्थता करने वाले कतर के विदेश मंत्री मोहम्मद बिन अब्दुल रहमान अल थानी रविवार अचानक काबुल पहुंचे। थानी ने सबसे पहले कार्यवाहक प्रधानमंत्री मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद से लंबी बातचीत की। इसके बाद वे पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई और उसके बाद नेशनल रिकन्सीलेशन काउंसिल के मुखिया अब्दुल्ला अब्दुल्ला से मिलने पहुंचे। माना जा रहा है कि कतर के जरिए अमेरिका और दुनिया की बड़ी ताकतें तालिबान पर समावेशी सरकार के लिए दबाव बनाना चाहती हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here