पाकिस्तान ने अफगानिस्तान भेजे 10 हजार जिहादी: राष्ट्रपति अशरफ गनी बोलेे- इमरान और उनके जनरल तालिबान का पक्ष लेते रहे, विवाद के बाद शांति सम्मेलन टला

0
2
Advertisement


  • Hindi News
  • International
  • Ghani Said Imran And His General Kept On Taking The Side Of The Taliban; Peace Conference Postponed After Dispute

ताशकंद/ काबुल35 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

ताशकंद में इमरान खान के सामने अशरफ गनी।

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने ताशकंद में पाकिस्तान पर गंभीर आरोप लगाए। ताशकंद में मध्य और दक्षिण एशिया संपर्क सम्मेलन चल रहा था। इसे संबोधित करते हुए गनी ने कहा- ‘पिछले महीने पाकिस्तान ने अफगानिस्तान में 10 हजार जिहादी भेजे। इस घटना की खुफिया रिपोर्ट उपलब्ध है। पाकिस्तान ने चरमपंथी समूहों से संबंध नहीं तोड़े हैं।’

गनी जब यह कह रहे थे, तब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान उनके सामने बैठे थे। गनी ने कहा, ‘पाकिस्तान सरकार तालिबान को शांति वार्ता में गंभीरता से भाग लेने के लिए मनाने में नाकाम रही है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और उनके जनरल बार-बार परोक्ष रूप से तालिबान का ही पक्ष लेते रहे। अब तालिबान के समर्थक खुलेआम अफगानिस्तान की संपत्तियों और लोगों के विनाश का जश्न मना रहे हैं।’

संघर्ष में पाकिस्तान की नकारात्मक भूमिका: इमरान खान
इस पर इमरान खान ने कहा, ‘यह सुनकर निराशा हुई कि संघर्ष में पाकिस्तान की नकारात्मक भूमिका थी। जबकि अफगानिस्तान में मची उथल-पुथल के कारण पिछले 15 साल में पाकिस्तान में 70 हजार लोगों की मौत हुई है।’ इस बहस के बाद पाकिस्तान में शनिवार को होने वाला अफगान शांति सम्मेलन टाल दिया गया।

सेना ने तालिबान को तीन जिलों से खदेड़ा
अफगानिस्तान के सुरक्षाबलों ने तीन जिलों सैघान, कहमार्ड और चखनसुर को तालिबान के कब्जे से मुक्त करा लिया है। इन जिलों पर अब अफगानिस्तान का नियंत्रण है। बामियान राज्य के राज्यपाल ताहिर जुहैर ने भी कहा कि अब यहां अफगानिस्तान का झंडा लहरा रहा है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here