पाक में आतंकी हमला: वजीरिस्तान में मिलिट्री ऑपरेशन करने गई यूनिट पर फायरिंग, 7 सैनिकों की मौत; 17 दिन पहले मारे गए थे 5 सैनिक

0
9
Advertisement


  • Hindi News
  • Afghan taliban
  • Pakistan Terror Attack | 7 Pakistan Army Soldiers Killed In Terrorist In Khyber Pakhtunkhwa; Imran Khan Government Condemn Act

इस्लामाबादएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

वजीरिस्तान में पेट्रोलिंग करते पाकिस्तानी सैनिक। (फाइल)

पाकिस्तान के खैबर पख्तूख्वा में मंगलवार शाम हुए आतंकी हमले में सात सैनिक मारे गए और 16 घायल हो गए। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह आर्मी की एक यूनिट यहां इंटेलिजेंस बेस्ड ऑपरेशन करने गई थी। इसी दौरान आतंकियों ने उसे घेर लिया और चारों तरफ से फायरिंग की। 7 सैनिकों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। 17 दिन में यह पाकिस्तानी सैनिकों पर इसी इलाके में दूसरा हमला है। इसके पहले 5 सैनिक मारे गए थे।

सेना ने बयान जारी किया
पाकिस्तानी द्वारा जारी बयान में कहा गया- मंगलवार को एक सैनिक टुकड़ी खुफिया जानकारी मिलने के बाद दक्षिणी वजीरिस्तान जिले में ऑपरेशन करने गई थी। इसी दौरान आतंकियों ने उसे घेर लिया और फायरिंग शुरू कर दी। सात सैनिक मारे गए हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 7 सैनिकों के मारे जाने के साथ 16 घायल भी हुए हैं। इनमें से कुछ की हालत गंभीर है, क्योंकि उन पर काफी नजदीक से फायरिंग की गई थी और इसलिए उन्हें पोजिशन लेने का मौका नहीं मिला। जिस क्षेत्र में यह घटना हुई, मैदानी इलाका है।

इमरान की पार्टी की सरकार
खैबर पख्तूनख्वा में प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ की सरकार है। यहां के एक नेता ने घटना की निंदा की है और कहा है कि फौज इसे चैलेंज के रूप में ले रही है, आतंकियों से हिसाब बराबर किया जाएगा।

साउथ वजीरिस्तान में कई आतंकी संगठन हैं, जो आए दिन पाकिस्तानी फौज पर हमले करते रहते हैं। पिछले महीने बाजौर में भी फौज पर हमला हुआ था और मीडिया के मुताबिक, उसमें पांच सैनिक मारे गए थे। सेना ने इनकी संख्या दो बताई थी।

किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली
अब तक किसी आतंकी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। यहां बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी के साथ ही पाकिस्तान तालिबान भी एक्टिव है और ये अकसर फौज को निशाना बनाते रहते हैं।

मंगलवार को ही एक इंटरव्यू में विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने पाकिस्तान तालिबान से समर्पण करने को कहा था। शाह ने एक ब्रिटिश अखबार को दिए साक्षात्कार में कहा था- अगर वे हथियार छोड़कर आना चाहते हैं तो हम इसका स्वागत करेंगे।

खबरें और भी हैं…



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here