ब्रिटेन से अच्छी खबर: प्री-कोविड लेवल पर पहुंचा नौकरियों में वेतन, कोरोना में रोजगार पहली बार 10 लाख के पार

0
6


  • Hindi News
  • Business
  • Good News From Britain Salary In Jobs Reached The Level Before The Epidemic, Employment In Corona Crossed One Million For The First Time

3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

ब्लूमबर्ग के मुताबिक रोजगार सृजन से संकेत मिलता है कि बाजार मजबूत हो रहा है।

कोरोना महामारी के टीकाकरण के बीच ब्रिटेन से अच्छी खबर है। वहां की कंपनियों के कर्मचारियों का वेतन अब प्री-कोविड लेवल के बराबर या उससे ऊपर पहुंच गया है। हालात ये हैं कि कंपनियों की रिकवरी उम्मीद से ज्यादा बेहतर हो रही है। ब्रेक्जिट और लॉकडाउन के कारण ठप पड़े कारोबार को रफ्तार देने के लिए नियुक्तियां करने वाली कंपनियों को लोग नहीं मिल रहे हैं।

कंपनियां मुंहमांगा वेतन देने को तैयार
इस समस्या से निपटने के लिए कंपनियां मुंह मांगा वेतन तक देने को तैयार हो गई हैं। ऑफिस फॉर नेशनल स्टैटिस्टिक्स (ONS) के आंकड़ों में तिमाही आधार पर रोजगार में 35% की वृद्धि रही। कंपनियों में कम से कम 2,41,000 कामगारों का वेतन अगस्त में बढ़ा है। नए रोजगार की संख्या 10 लाख पार कर गई है। कोरोना काल में पहला मौका है, जब इतने रोजगार उपलब्ध हुए हैं। इससे पता चलता है कि वायरस के दौर में भी कारोबार चल रहा है और बाजार उत्साहित है।

श्रम आपूर्ति में रुकावट का ग्रोथ पर असर
श्रम आपूर्ति में रुकावट सभी सेक्टर की ग्रोथ पर असर भी डाल रही है। ब्लूमबर्ग के मुताबिक रोजगार सृजन से संकेत मिलता है कि बाजार मजबूत हो रहा है। इन हालात में बैंक ऑफ इंग्लैंड अगले साल की पहली छमाही में ब्याज दरें बढ़ाने के बारे में सोच सकता है। कंपनियों के कार्यकारी समूह के प्रमुख अर्थशास्त्री किटी उशर के मुताबिक अर्थव्यवस्था बेहतर स्थिति में पहुंच चुकी है। छुटि्टयां खत्म होते ही रफ्तार पकड़ लेगी।

कंपनियों की चिंता- वैकेंसी भर भी पाएंगी या नहीं
कंपनियों की चिंता यही है कि कामगार नौकरियों पर लौटेंगे कि नहीं, क्योंकि जो लोग काम कर रहे हैं, वो नाकाफी हैं। अभी 60 लाख लोग बीमार होने, इससे उबरने या पढ़ाई के चलते काम पर नहीं आ रहे हैं। ब्रिटेन में सबसे ज्यादा 60 हजार नए रोजगार आवास और खाद्य सेवा से जुड़े क्षेत्र में निकले हैं। इसके बाद स्वास्थ्य और सामाजिक कार्य, रिटेल, पेशेवर वैज्ञानिक और तकनीशियन, यातायात-गोडाउन, प्रशासन, मैन्यूफैक्चरिंग, शिक्षा आदि क्षेत्रों में भी 40 हजार तक रिक्तियां हैं। सबसे कम नौकरियां जल आपूर्ति-सीवेज क्षेत्र में खाली हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here