राहुल का भाजपा और RSS पर निशाना: कांग्रेस सांसद ने कहा- भाजपा वाले झूठे हिन्दू हैं, ये धर्म की दलाली करते हैं; हमारा हाथ किसी से नहीं डरता

0
14
Advertisement



  • Hindi News
  • National
  • Rahul Gandhi Update | Congress Leader Rahul Gandhi On BJP Party Over GST And Congress MNREGA

नई दिल्ली30 मिनट पहले

राहुल गांधी महिला कांग्रेस के

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को एक बार फिर से BJP निशाना साधा। उन्होंने तंज कसते हुए पूछा कि भाजपा ने जब GST लागू किया तो दुकानदारों के घर में लक्ष्मी डाली या निकाली? कांग्रेस ने जब मनरेगा लागू किया तब लोगों के घर में लक्ष्मी डाली या निकाली?

राहुल ने कहा कि हमने RTI लागू करके करोड़ों लोगों के हाथों में दुर्गा की शक्ति डाली। उन्होंने कहा कि भाजपा वाले अपने आप को हिंदू पार्टी कहते हैं और पूरे देश में लक्ष्मी और दुर्गा पर आक्रमण करते हैं। ये झूठे हिन्दू हैं। ये हिन्दू धर्म का प्रयोग करते हैं। ये धर्म की दलाली करते हैं। राहुल ने ये बातें महिला कांग्रेस के स्थापन दिवस पर दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में कही। पढ़ें, राहुल के भाषण की 8 बड़ी बातें..

1. संघ और भाजपा की विचारधारा से कभी समझौता नहीं करूंगा
आज देश में आरएसएस की बीजेपी की सरकार है। और इनकी विचारधारा जो है और हमारी जो विचारधारा है। दोनों अलग हैं। या एक विचारधारा देश पर राज करेगी या दूसरी विचारधारा देश पर राज करेगी। कांग्रेस का कार्यकार्ता होने के नाते मैं बाकी दूसरी विचारधाराओं के साथ समझौता कर सकता हूं। लेकिन भाजपा और संघ की विचारधारा से कभी समझौता नहीं कर सकता। गांधीजी, सारकर और गोडसे की विचारधारा में क्या अंतर है? ये एक बड़ा और गहरा सवाल है।

2. आरएसएस की विचारधारा ने उस हिन्दू की छाती में 3 गोली क्यों मारी?
बीजेपी और संघ के लोग कहते है कि वो हिन्दू पार्टी हैं। पिछले सौ-दो सौ साल में किसी एक एक व्यक्ति ने हिन्दू धर्म को समझा हो और उसे अपने प्रैक्टिस बनाई है तो उस व्यक्ति का नाम महात्मा गांधी है। इसे हम भी मानते हैं और भाजपा-आरएसएस के लोग भी मानते हैं। तो अगर महात्मा गांधी ने हिन्दू धर्म को समझा और उन्होंने पूरी जिंदगी हिन्दू धर्म को समझने में लगा दी तो आरएसएस की विचारधारा ने उस हिन्दू की छाती में तीन गोली क्यों मारी? जिसको पूरी दुनिया एक उदाहरण मानती है। नेल्सन मंडेला से लेकर मार्टिन लूथर किंग तक कहते थे कि महात्मा गांधी एक उदाहरण थें। और गांधी ने अहिंसा को सबसे अच्छे तरीके से समझा और सिखाया।

3. राहुल ने लक्ष्मी और दूर्गा का मतलब भी बताया
राहुल ने अपने संबोधन में लक्ष्मी और दूर्गा का मतलब भी बताया। उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद महिला कांग्रेस के कार्यकर्ताओं से पूछा कि लक्ष्मी का मतलब क्या है? किसी ने नारी शक्ति तो किसी ने धन से जोड़कर जवाब दिया। इस पर राहुल ने बताया कि जम्मू में मैंने किसी से ये सवाल पूछा तो उन्होंने बताया, लक्ष्मी वो शक्ति है जो घर में पैसा लाती है। गलत इंटरप्रेटेशन। लक्ष्मी शब्द लक्ष्य से आता है। लक्ष्य को जो शक्ति पूरा करती है उसे लक्ष्मी कहा जाता है। राहुल ने फिर दूर्गा का मतलग बताया। उन्होंने कहा- देखिए हमारा धर्म जो है बड़ा लोजिकल है। दूर्गा शब्द आता है दूर्ग से। दूर्ग का मतलब किला। दूर्गा मतलब वो शक्ति जो रक्षा करती है। मतलब साफ है। जो लक्ष्य को पूरा करे वो लक्ष्मी और जो रक्षा करे वो दूर्गा।

4. लक्ष्मी और दूर्गा को भाजपा और कांग्रेस की योजनाओं से जोड़ा
राहुल ने लक्ष्मी और दूर्गा को आज की राजनीति से जोड़ते हुए कहा- राजनेता का काम दूर्गा (रक्षा) और लक्ष्मी (लक्ष्य) को इन शक्तियों को हर व्यक्ति तक पहुंचाने का होता है। बिना भेदभाव के हर व्यक्ति के घर में दूर्गा मतलब रक्षा, लक्ष्मी मतलब लक्ष्य पूरा करने की शक्ति डालने का काम हर राजनेताओं का होता है। मैंने कुछ गलत बोला? ठीक पटरी पर चल रही है गाड़ी? अब सवाल पूछता हूं..जब मोदी जी ने नोटबंदी की तब उन्होंने हमारी माताओं-बहनों के घर में लक्ष्मी शक्ति बढ़ाई या कम की? कम की न…। जब ये नरेंद्र मोदी जी ने किसानों पर तीन कानून लागू किए उनसे लक्ष्य पूरे करने वाली शक्ति उन्होंने छिनी या उनको दी?…छिनी। जब जीएसटी लागू किया। छोटे दूकानदारों के घर में उन्होंने लक्ष्मी और दूर्गा डाली या निकाली? और जब कांग्रेस पार्टी ने मनरेगा लागू किया तो करोड़ों लोगों के घर में लक्ष्मी की शक्ति डाली या निकाली? जब हमने आरटीआई लागू किया तो करोड़ों लोगों के हाथों में दूर्गा की शक्ति डाली हो या नहीं? जब हमने संविधान की लड़ाई लड़ी? वन मैन वन बोर्ड दिया तो हमने दूर्गा शक्ति बढ़ाई या कम की? लक्ष्मी की शक्ति ज्यादा की या कम की? …तो ये हो क्या रहा है?

5. वो पूरे देश में लक्ष्मी और दूर्गा पर आक्रमण करते हैं
वो अपने आप को हिन्दू पार्टी कहते हैं। और पूरे देश में लक्ष्मी और दूर्गा पर आक्रमण करते हैं। जहां ये जाते हैं। कहीं ये लक्ष्मी को मारते हैं तो कहीं ये दूर्गा को मारते हैं। और फिर कहते हैं कि हम हिन्दू हैं। ये किस प्रकार के हिन्दू हैं? ये झूठे हिन्दू हैं। ये हिन्दू धर्म का प्रयोग करते हैं। ये हिन्दू धर्म की दलाली करते हैं। मगर ये हिन्दू नहीं हैं। राहुल ने भीड़ से पूछा…बात समझ आई..क्लेयर थी?

6. मीडिया को भी घेरा, कहा-टीवी पर ये मेरा भाषण नहीं दिखाएंगे
राहुल ने अपने संबोधन में मीडिया को भी घेरा। उन्होंने कहा कि अभी जो मैं भाषण दे रहा हूं। यह टीवी पर चल ही नहीं सकता। यहां मीडिया के कई साथी हैं। उनसे पूछिए क्या ये भाषण उनके चैनल पर चलेगा? मैं बताता हूं, ये चल ही नहीं सकता। इस पर भीड़ में ठहाके गूंजने लगे।

7. महात्मा गांधी के आसपास इसलिए रहती थीं महिलाएं..
राहुल गांधी ने आगे बताया कि महात्मा गांधी की तस्वीरों में आप लोगों ने देखा होगा कि उनके आसपास दो-तीन महिलाएं होती थीं। क्या आपने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के आसपास किसी महिला को देखा है? ऐसा इसलिए क्रूोंकि कांग्रेस महिलाओं का सम्मान करती है और उन्हें मंच देती है। मोदी और आरएसएस देश को महिला प्रधानमंत्री नहीं दे सकते। कांग्रेस ने दिया है।

8. कांग्रेस के निशान हाथ को हर धर्म से जोड़ा
राहुल ने स्थापन दिवस पर महिला कांग्रेस का नया लोगो जारी जारी किया। उन्होंने सभा में मौजूद लोगों से इसका मतलब भी पूछा और आखिरी में खुद इसके बारे में बताया। राहुल ने कहा आपने भगवान शिव, महावीर, बुद्ध, गुरुनानक, जीसस क्राइस्ट, साईं बाबा सबकी तस्वीरों में सामने हाथ होता है। मुस्लिम धर्म में चिह्न अलाउ नहीं होता। लेकिन जब आप अल्लाह से कुछ मांगती हैं तो आप अपने दाएं हाथ से मांगती हैं। तो ये हाथ..दायां हाथ सब जगह दिखता है। इस हाथ का मतलब होता है.. सच्चाई से डरो मत। कांग्रेस किसी से नहीं डरती।



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here