शोधकर्ताओं का दावा: बहुत ज्यादा वर्कआउट न करें, इससे दिल से जुड़ी गंभीर समस्याओं का जोखिम दोगुना, 55 से कम उम्र वालों पर ज्यादा असर

0
6
Advertisement


  • Hindi News
  • International
  • Do Not Exercise Too Much, It Doubles The Risk Of Serious Heart Problems, More Impact On Those Under 55

लंदनएक दिन पहले

  • कॉपी लिंक

ब्रिटेन के शोधकर्ताओं ने 70 हजार लोगों के दिल की सेहत की स्टडी से निष्कर्ष निकाला है।

यूरो कप के मैच के दौरान कुछ दिनों पहले डेनमार्क के फुटबॉलर क्रिश्चियन एरिक्सन को कार्डिएक अरेस्ट हुआ था। एक अन्य खिलाड़ी को कुछ समय पहले हार्ट स्टार्टिंग डिवाइस लगाना पड़ी। अगर आप भी उन लोगों में से हैं, जिन्हें लगता है कि बहुत ज्यादा वर्कआउट करने से आप अच्छी सेहत पा लेंगे, तो अलर्ट हो जाइए। शोधकर्ताओं का दावा है कि वर्कआउट सामान्य से बहुत ज्यादा होने पर दिल से जुड़ी गंभीर समस्याओं का खतरा दोगुना तक बढ़ जाता है। 70 हजार लोगों के दिल की सेहत की स्टडी के बाद शोधकर्ताओं ने यह दावा किया है।

इनमें 63 हजार सामान्य लोग, बाकी एथलीट या खेल प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले थे। ब्रिटिश जर्नल ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन में प्रकाशित इस स्टडी में दावा किया गया है कि सामान्य लोगों की तुलना में एथलीटों को एट्रियल फिब्रिलेशन (दिल की धड़कन अनियमित होना) की समस्या होने की आशंका 2.5 गुना ज्यादा होती है। यह स्थिति ही स्ट्रोक और हार्ट फेलियर की वजह बनती है।

55 साल और उससे कम उम्र के युवा एथलीटों में यह खतरा और भी ज्यादा
शोधकर्ताओं ने पाया कि 55 साल और उससे कम उम्र के युवा एथलीटों में यह खतरा और भी ज्यादा है, क्योंकि सामान्य लोगों की तुलना में उन्हें एट्रियल फिब्रिलेशन का जोखिम 3.6 गुना अधिक है। हालांकि यह समस्या ज्यादातर बजुर्ग लोगों में देखने को मिलती रही है। पर अब युवाओं में भी यह तेजी से बढ़ रही है।

निश्चित सीमा में वर्कआउट से हाई ब्लड प्रेशर और मोटापे का खतरा कम
स्टडी के प्रमुख लेखक और केंटरबरी क्राइस्टचर्च यूनिवर्सिटी में विशेषज्ञ डॉ. जेमी ऑड्रिस्कॉल के मुताबिक स्टडी के नतीजों से पता चलता है कि दिल की अच्छी सेहत के लिए निश्चित सीमा तक ही वर्कआउट ही अच्छा है। उनका मानना है कि समग्र रूप से शारीरिक गतिविधि दिल की सेहत मेंं सुधार करती है। साथ ही हाई ब्लड प्रेशर, मोटापे और हाई कॉलेस्ट्रॉल के खतरे को घटाती है। इससे दिल की परेशानियों से मौत की आशंका भी काफी हद तक घट जाती है।

एक्सपर्ट व्यू- हफ्ते में पांच दिन 40-40 मिनट वर्कआउट बेहतर

  • एक स्वस्थ वयस्क को रोज करीब 5 किमी चलना चाहिए। हफ्ते में 5 दिन 40 मिनट वर्कआउट कर सकते हैं। वर्कआउट के बाद अधिकतम हार्ट रेट 60% होना चाहिए। हार्ट रेट को 220 में उम्र से घटाकर कर माप सकते हैं। जैसे किसी की उम्र 30 साल है, तो वर्कआउट के बाद उसकी हार्टरेट 220-30=190 का 60% यानी 114 होना चाहिए। यदि 85% तक हार्ट रेट हासिल हो जाती है, कोई समस्या नहीं है और ईसीजी में बदलाव भी नहीं आता तो दिल सेहतमंद है। – प्रो.संदीप मिश्रा, हार्ट स्पेशलिस्ट, एम्स, दिल्ली

खबरें और भी हैं…



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here