हरियाणा का खेल मॉडल समझने पानीपत पहुंची गुजरात टीम: खेल के माहौल को समझने के साथ-साथ कोच, खिलाड़ियों और अभि‌भावकों से की बात; परिजनों के सपोर्ट और खेल नीति को बताया बेस्ट

0
8


  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • The Players Of Haryana Bring Maximum Medals For The Country In Sports, The Team Leader Said Parenting Support And The Atmosphere Of Sports Is Available From The Beginning

पानीपत27 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

शिवाजी स्टेडियम में पहुंची गुजरात की टीम।

हरियाणा का खेल मॉडल देखने के लिए गुजरात की 11 सदस्यीय टीम पानीपत के स्पोर्ट्स स्टेडियम में पहुंची। इस मौके पर टीम ने जाना कि क्या कारण है कि ओलिंपिक समेत सभी अंतर्राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में अन्य प्रदेशों की तुलना में हरियाणा के खिलाड़ी सबसे ज्यादा क्यों मेडल लाते हैं। टीम ने खिलाड़ियों के बेहतर प्रदर्शन का राज जानने और हरियाणा के स्पोर्ट्स मॉडल को नजदीक से देखने के साथ-साथ खेल अधिकारी, कोच, खिलाड़ी और अभिभावकों से भी बात की

पानीपत का शिवाजी स्टेडियम।

पानीपत का शिवाजी स्टेडियम।

पानीपत के जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलिंपिक के एथलेटिक्स एंड ट्रैक इवेंट में देश को पहला गोल्ड मेडल दिलाया। पहलवान बजरंग पूनिया ने ब्रांज मेडल जीता। अन्य खेलों में भी हरियाणा के खिलाड़ियों ने देश को मेडल दिलाए। गुजरात से पहुंची टीम ने हरियाणा के खिलाड़ियों के हर खेल में बेहतर प्रदर्शन के कारण जाने। टीम में गुजरात के अलग-अलग जिलों से अलग-अलग खेलों के कोच शामिल रहे। टीम ने खिलाड़ियों और उनके माता-पिता से उनके खाने से लेकर दिन के रूटीन और प्रैक्टिस को लेकर चर्चा की। शिवाजी स्टेडियम के बाद टीम दो हिस्सों में समालखा, पट्‌टीकल्याणा, मनाना, मतलौडा, अहर, इसराना और बुडशाम गांव भी गई।

पानीपत के शिवाजी स्टेडियम में वॉलीबॉल खेलते बच्चे।

पानीपत के शिवाजी स्टेडियम में वॉलीबॉल खेलते बच्चे।

अभिभावकों का सपोर्ट और खेल के माहौल के कारण अव्वल
टीम लीडर समीर पांचाल ने बताया कि मेडल जीतने के मामले में हरियाणा के खिलाड़ी सबसे आगे हैं। उनके प्रदेश के खिलाड़ी अभी उस स्तर पर नहीं पहुंच पा रहे हैं। यही कारण जाने के लिए स्टेट लेवल पर कमेटी बनाई गई। यह कमेटी हरियाणा के अलग-अलग जिलों में जाकर रिपोर्ट तैयार करेगी। समीर ने बताया कि हरियाणा में माता-पिता का सपोर्ट शुरू से रहता है। किसी भी क्षेत्र में बच्चों की सफलता के लिए यह बेहद जरूरी है। यहां गांव और स्कूल-कॉलेज से ही बच्चों को खेल का वातावरण मिलता है। बच्चे शुरू से ही अपने-अपने खेलों में मजबूत पकड़ बना लेते हैं।
हरियाणा की खेल पॉलिसी को भी बताया बेहतर
टीम में शामिल कोच हर्ष दरजी ने कहा कि खेलों को लेकर हरियाणा सरकार की पॉलिसी बेहतर है। यहां खिलाड़ियों को सम्मान के साथ उनके करियर का भी ध्यान रखा जाता है। खेलों में बेहतर करने वालों को सरकारी नौकरी के साथ आर्थिक मदद भी काफी की जाती है। जिस कारण यहां के युवाओं की रुचि खेलों में अधिक है। इसी रुचि के कारण वह खेलों में बेहतर प्रदर्शन कर पाते हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here